Monday, 15 July 2013

Wajah !!

चल पड़े रहो पर मंज़िल का पता ना था,
जूझते रहे आँधियों से, राहत का अरमान ना था,
तमाननायें थी बड़ी दिल में पर कोशिशों की वजह ना थी,
मिलकर रूठ गयी एक दिन वो वजह भी हमसे,
रोना चाहा दिल ने पर आँखों में पानी ना था !!

chal pade raho par manzil ka pata na tha
joojhte rahe aandhiyon se, rahat ka armaan na tha,
tamannayein thi badi dil mein par koshishon ki wajah na thi,
milkar rooth gayi ek din wo wajah bhi humse,
rona chaha dil ne par aankhon mein paani na tha.

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...